जेके लॉन अस्पताल में क्रिटिकल केयर एंबुलेंस, 36 बैड की इमरजेंसी और कैंसर वार्ड का लोकार्पण

जयपुर। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री कालीचरण सराफ का कहना है कि स्वास्थ्य विभाग का लक्ष्य प्रदेश में शिशु मृत्यु दर को करना है। वर्तमान में शिशु मृत्यु दर 41 प्रति 1000 शिशु है, जिसे 28 प्रति 1000 करना है। सराफ शुक्रवार को प्रदेश में बच्चों के सबसे बड़े अस्पताल जेके लॉन अस्पताल में क्रिटिकल केयर एंबुलेंस, 36 बैड की इमरजेंसी और कैंसर वार्ड के लोकार्पण समारोह को संबोंधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि अस्पताल में निर्मित इमरजेंसी वार्ड की लागत एक करोड़ 30 लाख है, जबकि दानदाताओं की मदद से कैंसर वार्ड बनवाया गया है, जिसकी लागत 22 लाख है। क्रिटिकल केयर एम्बुलेंस का जिक्र करते हुए सराफ ने कहा कि बच्चों के बेहतर स्वास्थ्य और शिशु मृत्यु दर में कमी लाने के लिए ये एम्बुलेंस एक वरदान साबित होगी।

अस्पताल अधीक्षक डॉ. अशोक गुप्ता ने कहा कि जे के लोने हॉस्पिटल देश का सबसे बड़ा शिशु रोग विशेषज्ञ अस्पताल बन गया है। इसके साथ ही हॉस्पिटल में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने और कीटाणु रहित वातावरण बनाने के लिए हॉस्पिटल प्रशासन प्रतिबद्ध है।

गौरतलब है कि यह एम्बुलेंस सांसद रामचरण बोहरा की ओर से भेंट की गयी है। जिसमें नवजात शिशु से लेकर 18 साल तक के मरीजों को इमरजेंसी की सुविधाएं दी जाएगी।
– एजेंसी



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *