Virat Post

Rajasthan News Site

सुरक्षा उपकरण के साथ मिले फील्ड का पूर्ण प्रशिक्षण : दिनेश शर्मा

फील्ड में नौकरी के समय करंट की चपेट में आए विद्युतकर्मियों को श्रृद्धांजलि

जयपुर (विराट पोस्ट)। प्रदेश में सिस्टम पर काम करने के दौरान बिजली करंट लगने से मरने वाले कर्मचारियों को शहीद का दर्जा देते हुए संगठन ने रविवार को बनीपार्क स्थित पुराना पावर हाउस परिसर में श्रृद्धांजलि सभा का आयोजन किया। कर्मचारियों ने शहीद स्मारक पर पुष्य अर्पित किए।

इस मौके पर मीटर इंस्पेक्टर दिनेश शर्मा ने कहा कि हम आज उन विद्युतकर्मी साथियों को गरिमा पूर्ण गाथा गाने के लिए एकत्रित हुए हैं, जो बिजली संबंधी सेवा करते हुए अपना नाम शहीदों में यादगार रूप में छोड़ गए। हम जनसाधारण को अंधेरे से उजाले की ओर ले जाने का श्रेय या तो सूर्य देवता को है या उन विद्युत कर्मियों को है, जिनका उद्वेश्य सिर्फ अंधेरे से उजाला करना है।

उन्होंने कहा कि आज उन विद्युत कर्मियों की जिन्होंने अपनी और अपने आश्रितों की परवाह किए बिना इस सेवा में अपने प्राणों की आहुति तक दे दी। उनके लिए हमारे ओर से सहानुभूति के दो शब्द जैसा कि शहीदों के शक्ति स्थल पर लगेंगे। हर वर्ष मे विद्युत विभाग पर जान देने वालों का यही बाकी निशा होगा। उन शहीदों को हम तहे दिल से आज याद कर सच्ची श्रद्धांजलि अर्पण करते हैं।

विद्युत कर्मियों के ऐसे सुकृत्य उसे प्रभावित हो हमारी निर्गुण तमाम सरकार के तत्कालीन मंत्री स्वर्गीय डॉ दिगंबर सिंह और फेडरेशन के महामंत्री वेद प्रकाश जी ने 19 जनवरी 2005 से शहीद दिवस मनाने का निर्णय लिया। तभी से इसकी पुनरावृति निरंतर हो रही है, तथा आज यह विद्युत कर्मियों के शहीदों की याद में सहानुभूति पूर्वक शहीद दिवस के रुप में मनाया जाता रहा है, ऐसे शहीदों को हम अपना सलाम उद्बोधन के रूप में प्रस्तुत करते हुए गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं, और उन शहीदों को हम अपनी अश्रुपूरित श्रद्धांजलि प्रस्तुत कर रहे हैं। कर्मचारियों ने पर कार्यभार कम हो तथा सुरक्षा उपकरण दिए जाए, ताकि कोई मौत नहीं हो। इसके साथ ही कर्मचारियों को फील्ड में लगाने से पहलेे पुरी ट्रेनिंग दे।

राजस्थान विद्युतकर्मी शहीद शक्ति स्मारक समिति की ओर से इसका आयोजन किया। इस अवसर पर कर्मचारी नेता वेदप्रकाश, मीटर इंस्पेक्टर दिनेश शर्मा, जीएल मीना सहित अन्य लोग मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *