Virat Post

Rajasthan News Site

प्रदूषण से संबंधित कंसेंट प्रकरणों के निस्तारण में कोताही बर्दाश्त नहीं : गोयल


वीडियो कॉफ्रेंस में क्षेत्रीय अधिकारियों के साथ बोर्ड के कार्यों की समीक्षा

जयपुर। राजस्थान राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के चेयरमैन पवन कुमार गोयल ने कहा कि उद्योग, होटल एवं अस्पतालों की प्रदूषण से संबंधित कंसेंट प्रकरणों के निस्तारण में कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। अधिकारी सभी प्रकरणों का तय अवधि में निस्तारण करना सुनिश्चित करें। गोयल सोमवार को यहां झालाना सांस्थानिक क्षेत्र स्थित बोर्ड कार्यालय में आयोजित वीडियो कॉफ्रेंस में क्षेत्रीय अधिकारियों के साथ बोर्ड के कार्यों की समीक्षा कर रहे थे।

बोर्ड चेयरमैन गोयल ने कहा कि सभी उद्योग, होटल एवं अस्पतालों के संचालन के लिए बोर्ड से कंसेंट लेनी होती है। अधिकारी इसमें बेवजह देरी नहीं करें। तय समय में सभी प्रकरणों का निस्तारण करें। इसमें कहीं भी किसी भी स्तर पर कोताही सहन नहीं की जाएगी। कुछ कंसेंट प्रकरण सरकारी विभागों से जुड़े हुए हैं, जिनमें नीतिगत समस्या आ रही है। ऎसे प्रकरणों को चिन्हित कर भिजवाएं ताकि संबंधित विभाग से समन्वय कर निस्तारण किया जा सके।

गोयल ने अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि पूर्ण विचार-विमर्श के पश्चात् ही क्लोजर डायरेक्शन जारी करें और उसके बाद पालना सुनिश्चित कराएं। उन्होंने इसके लिए क्षेत्रीय अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की। श्री गोयल ने बोर्ड के सर्कुलर के मुताबिक ग्रुप हाउसिंग प्रोजेक्ट्स की मॉनिटरिंग करने के निर्देश दिए। उन्होंने बोर्ड में कार्मिकों की भर्ती प्रक्रिया को गति देकर शीघ्र पूरी करने के निर्देश दिए।

बोर्ड चेयरमैन ने सम्पर्क पोर्टल पर दर्ज प्रकरणों की समीक्षा करते हुए तीन महीने से पुराने सभी प्रकरणों का आगामी 31 जनवरी तक शत प्रतिशत निस्तारण करने के निर्देश दिए। उन्होंने निरीक्षण के लम्बित प्रकरणों एवं कारण बताओ नोटिस सहित विभिन्न प्रकरणों की बिन्दुवार समीक्षा कर अधिकारियों को निर्देशित किया।

बोर्ड की सदस्य सचिव श्रीमती शैलजा देवल ने शहरी क्षेत्र में प्रदूषण फैलाने वाली इकाइयों को चिन्हित कर निरीक्षण करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि नियमों की अवहेलना करने वाली ऎसी इकाइयों के खिलाफ कार्रवाई कर इस माह के अंत तक रिपोर्ट प्रेषित करें। वीडियो कॉफ्रेंस में मुख्य पर्यावरण अभियंता श्री वी.के सिंघल सहित मुख्यालय में पदस्थापित उच्च अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *