Virat Post

Rajasthan News Site

जयपुर डिस्कॉम में विभिन्न कार्यों तथा योजनाओंं की प्रगति की हुई समीक्षा

जयपुर। जयपुर डिस्कॉम के प्रबन्ध निदेशक ए. के. गुप्ता की अध्यक्षता में बुधवार को विद्युत भवन में निगम के वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक आयोजत हुई, जिसमें विभिन्न कार्यों तथा योजनाओंं की प्रगति की समीक्षा की गई और सर्किंल अधीक्षण अभियन्ताओं द्वारा उपलब्ध करवाई गई सूचना के आधार पर उत्कृष्ट कार्यं के लिए प्रत्येक सर्किंल से एक-एक अभियन्ता को प्रशस्ति पत्र देने की घोषणा की गई। बैठक में निदेशक तकनीकी, सचिव-प्रशासन, मुख्य लेखा नियंत्रक, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सतर्कंता, संभागीय मुख्य अभियन्ता सहित निगम क्षेत्र के अन्तर्गंत आने वाले 12 जिलों के अधीक्षण अभियन्ता उपस्थित रहे।

जयपुर डिस्कॉम के प्रबन्ध निदेशक ए.के.गुप्ता ने लॉसेज की समीक्षा करते हुये निर्देंश दिये कि डिफेक्टिव मीटरों को समय पर बदले, मांगपत्र जमा उपभोक्ताओं को समय पर कनेक्शन जारी करे, नए कनेक्शन के उपभोक्ताओं के प्रथम बिल जारी करने में देरी नही की जाए और बिजली चोरी को रोकने के लिए प्रभावी विजीलेन्स चैकिंग की जाए। उन्होंने कहा कि सर्किल स्तर पर लॉसेज के लिए अधीक्षण अभियन्ता जिम्मेदार होंगे और लोस कम करने पर प्रशस्ति पत्र व बढने पर उनके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। निगम द्वारा लागू की गई कि स्वैच्छिक भार वृद्धि घोषणा योजना के बारे में किसानों को जानकारी दी जाए और जिन कृृषि उपभोक्ताओं के मीटर डिफेक्टिव होने की वजह से फ्लेट रेट पर बिलिंग हो रही है उनके मीटरों को तुरन्त बदलने की कार्यवाही की जाए।

वाईएमपीएल द्वारा की गई मीटर जांच एवं उपभोक्ताओं द्वारा मीटर बदलने के लिए किए गए आवेदन के मामलों में साईट रिपोर्ट मंगवाने के बाद ही मीटर बदलने की कार्यवाही की जाए और रिपोर्ट में चोरी होना पाया जाए तो पहले उसकी वीसीआर भरने की कार्यवाही की जाए। इसके साथ ही यह भी निर्देश दिया गया कि मीटर रीडर/फीडर इंचार्ज द्वारा रिडिंग लाने के बाद प्रत्येक अभियन्ता द्वारा फील्ड में जाकर उसकी चैकिंग भी करनी चाहिए। उन्होंने अधीक्षण अभियन्ताओं को कहा कि डीडीयूजीजेवाई व आईपीडीएस स्कीम में डीपीआर के अनुसार सब-स्टेशन व 33 केवी लाईन खींची गई है अथवा नही इसका सत्यापन करने के बाद ही फाइनल पेमेन्ट करने की कार्यवाही की जाए। विद्युत ट्रिपिंग, विद्युत दुर्घटनाओं की रोकथाम, घरेलू कनेक्शन जारी करने, मल्टीस्टोरी बिल्डिगों में कनेक्शन देने, फीडर पृृथकरण, पुरानी बकाया राशि की वसूली, स्वैच्छिक भार वृृद्धि घोषणा योजना, कृृषि कनेक्शन जारी करने, कुसुम योजना पर चर्चा कर समीक्षा की गई।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *