Virat Post

Rajasthan News Site

रजिस्ट्रेशन एवं नवीनीकरण नहीं होनेे वाले मैरिज गार्डंनों पर होगी कुर्कीं

राजस्व वसूली के लिए निगम चलायेगा विशेष अभियान

जयपुर (विराट पोस्ट)। ऐसे मैरिज गार्डन जिनका रजिस्ट्रेशन नही करवाया गया है या जिनका नवीनीकरण नही हुआ है, उन पर आगामी 15 दिवस में कार्यवाही कर टैक्स वसूलने केे निर्देश नगर निगम आयुक्त विजयपाल सिंह ने अधिकारियों को दिये है।

नगर निगम मुख्यालय में मंगलवार को आयोजित सभी जोनों के उपायुक्तों, राजस्व अधिकारियों तथा राजस्व निरीक्षक कि बैठक में आयुक्त ने निर्देश दिये है कि जिन मैरिज गार्डनो पर यूडी टैक्स, लाईसेन्स फीस तथा अन्य किसी भी प्रकार के शुल्क बकाया है तथा संचालको द्वारा शुल्क जमा नही करवाया जा रहा है तो उनके खिलाफ कुर्की की कार्यवाही कर शुल्क वसूला जाये।

उन्होने सभी राजस्व निरीक्षकों एवं राजस्व अधिकारियों को निर्देश दिये है कि वे घर-घर सम्पर्क कर हाउस टेैक्स, यूडी टैक्स तथा लीज राशि में राजस्थान सरकार द्वारा दी गई छूट की जानकारी पहुचाए। जयपुर शहर में 21 हजार करदाता ऐसे है जो प्रतिवर्ष टैक्स जमा कराते है। किन्तु इनमें से 7378 करदाताओ द्वारा इस वर्ष का यूडी टैक्स जमा नही कराया गया है। इन पर लगभग 28 करोड रूपये बकाया है। आयुक्त ने सभी सम्बन्धित अधिकारीयों को निर्देश दिय है कि ऐसे करदाताओ को शीघ्र नोटिस देकर राजस्व वसूली की जाये।

आयुक्त ने बताया कि होटल, रेस्टोरेन्ट, स्कूल, बैंक, मैरिज गार्डन आदि पर यूडी टैक्स के अलावा होर्डिग टैक्स, लीज राशि आदि अन्य प्रकार के कर भी बकाया रहते है। उन्होंने निर्देश दिये है कि ऐसी सम्पत्तियों के सभी प्रकार के कर वसूले जाये। उन्होंने निर्देश दिये है कि जिन मामलो मे सम्पति धारको ने न्यायालय से स्थगन आदेश प्राप्त कर रखे है, उन मामलो में उपायुक्त, राजस्व अधिकारी व्यक्तिगत तौर पर अधिवक्ताओं के माध्यम से न्यायालय में निगम का पक्ष मजबूती से रखवाये तथा स्थगन आदेश खारीज होने पर कुर्की की कार्यवाही कर राजस्व प्राप्त करे।

ऐसी फर्म जिनके जयपुर में केन्द्रीयकृत नियंत्रण कार्यालय संचालित है, जैसे मोबाईल, पैट्रोलियम कम्पनिया, बैंक, फाइनेन्स, सोफ्ट डिं्रक, इलेक्ट्रोनिक कम्पनियां आदि को विज्ञापन शुल्क जमा कराने के लिए पूर्व में नोटिस जारी किया जा चुका है । किन्तु कई कम्पनियों द्वारा आज तक होर्डिग शुल्क जमा नहीं करवाया गया है। ऐसे प्रकरणों में जिस जोनल क्षेंत्र में सम्बन्धित कम्पनी का केन्द्रीकृत कार्यालय है उसे कुर्क कर राजस्व वसूला जायेगा। बैठक में जोन उपायुक्त, राजस्व अधिकारी, राजस्व निरीक्षक तथा निगम के आला अधिकारी उपस्थित रहे।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *