Virat Post

Rajasthan News Site

Top 10 Palace In Jaipur । यहाँ आने के बाद नहीं करेगा लोटने का मन


जयपुर अपनी समृद्ध विरासत और संस्कृति के कारण पूरी दुनिया के पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है। यहां के प्रमुख दर्शनीय स्थलों में आमेर का किला, जयगढ़ किला, नाहरगढ़ किला, हवामहल, जलमहल, सिटी पैलेस, जंतर मंतर, अल्बर्ट हॉल, गोविन्द देवजी मंदिर आदि हैं।

अगर आपको प्राचीन महलों और शाही जीवनशैली को करीब से देखने की लालसा है तो आप जयपुर शहर का भ्रमण जरूर करें। कला-संस्कृति और विशेषकर वास्तुकला में दिलचस्पी रखने वालों को यहां जरूर आना चाहिए। छुट्टियां बिताने के लिए जयपुर आदर्श विकल्प है, जहां सिर्फ देशभर से ही नहीं बल्कि विश्वभर से सैलानी आते हैं। आईये आपको ले चलते हैं जयपुर के प्रमुख पर्यटन स्थलों की ओर –

1 – गोविंद देवजी मंदिर : जयपुर भ्रमण की शुरूआत आप गोविन्द देवजी मंदिर से कर सकते हैं। जयपुर के आराध्य देव गोविन्द देवजी का मंदिर सिटी पैलेस के अंदर स्थित है। कहा जाता है कि इस मंदिर में स्थापित भगवान कृष्ण की मूर्ति को जयसिंह द्वितीय वृन्दावन से लाए थे और यहां स्थापित करवाया था।

2 – सिटी पैलेस : सिटी पैलेस राजाओं का तख्त रहा है जिसमें कई भवन हैं। आंगन, मंदिर और बाग भी हैं। ये महल भारतीय और यूरोपीय वास्तुकला शैली का बेहतरीन मिश्रण है, जिसका निर्माण महाराजा जयसिंह द्वितीय ने शुरू करवाया था। इस पैलेस में मुबारक महल, चंद्र महल, महारानी का महल, मुकुट महल और सिटी पैलेस संग्रहालय हैं। सिटी पैलेस के सबसे भीतरी किले चंद्र महल में शाही परिवार के सदस्य रहते हैं।

3 – जंतर-मंतर : महाराजा जयसिंह द्वारा बनवाई गई विश्व की सबसे बड़ी वेधशालाओं में से एक है जंतर मंतर। इस वेधशाला में रखे गए उपकरणों के जरिए खगोलीय गणनाएं बड़ी सटीकता के साथ की जाती थी। यहां दुनिया की सबसे बड़ी धूप घड़ी भी मौजूद है।

4 – हवामहल : इस खूबसूरत पांच मंजिला भवन का निर्माण महाराजा प्रताप सिंह ने 1799 में करवाया था। इस महल में हवा आने के लिए 953 खिड़कियां हैं, इसलिए इसे हवामहल कहा जाता है। इसे राजपूत महिलाओं के लिए बनवाया गया था। लाल गुलाबी पत्थरों से बने इस महल में पुरातात्विक संग्रहालय भी है।

5 – जल महल : वास्तुकला का बेहतरीन नमूना है जल महल, जो जयपुर शहर की मानसागर झील के बीच में मौजूद है। इस महल का निर्माण सवाई जयसिंह ने अश्वमेघ यज्ञ के बाद अपनी रानियों और पंडित के स्नान के लिए करवाया था। अब इस महल को पक्षी अभयारण्य के रूप में विकसित किया जा रहा है।

6 – जयगढ़ किला : आमेर की सुरक्षा के लिए बनवाए गए इस किले को ‘विजय किलाÓ के नाम से भी जाना जाता है। एक गुप्त मार्ग के जरिए आमेर महल से जयगढ़ किले तक पहुंचा जा सकता है। इसमें रखी गई तोप दुनिया की सबसे बड़ी तोप है। अरावली रेंज में, चील का टीला पर बने इस किले को महाराजा जयसिंह द्वितीय ने 1726 में बनवाया था।

7 – नाहरगढ़ किला : अरावली की पहाडिय़ों के किनारे स्थित इस किले से जयपुर शहर का खूबसूरत नजारा दिखाई देता है। ये किला शिकार के दौरान राजाओं का निवास स्थान हुआ करता था। इस किले को सुदर्शनगढ़ भी कहा जाता है। इसका निर्माण 1734 में महाराजा जयसिंह ने करवाया था।

8 – आमेर किला : हिन्दू वास्तुकला का कलात्मक नमूना है आमेर का किला, जिसे महाराजा मानसिंह प्रथम ने बनवाया था। लाल संगमरमर और बलुआ पत्थरों से बने इस चार मंजिला किले में शाही विरासत के तौर पर दीवान-ए-आम, दीवान-ए-खास, शीश महल और सुख निवास जैसे स्थान हैं और शिला माता का प्राचीन मंदिर भी है।

9 – अल्बर्ट हॉल : अल्बर्ट हॉल जयपुर का सबसे पुराना संग्रहालय है, जो इंडो-अरब वास्तुकला के मेल से बना है। यहां राजस्थान की शाही परंपरा से जुड़ी हर छोटी-बड़ी चीज को करीब से देखा जा सकता है क्योंकि यह राजस्थान का शासकीय संग्रहालय है।

10 – साइंस पार्क : जयपुर के शास्त्री नगर में स्थित साइंक पार्क भी पर्यटकों की खास पसंद बना हुआ है। यहां आकर आप विज्ञान के सिद्धांतों को बड़ी आसानी से समझ सकते हैं। यहां डायनो पार्क में विशालकाय डायनोसोर भी है। इसके अलावा ट्रैफिक पार्क, डाक विभाग, अस्पताल, स्कूल व बस स्टॉप की जानकारी बहुत ही आसान तरीके से सिखाई गई है।

उम्मीद है कि जयपुर शहर के पर्यटन स्थलों की ये सैर आपको पसंद आयी होगी और आप भी इस पिंकसिटी को करीब से देखने के लिए एक बार यहां जरूर आना चाहेंगे। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *